बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ के पोस्टर में आसिया अंद्राबी, जांच के आदेश

श्रीनगर, (मैट्रो नेटवर्क)। जम्मू एवं कश्मीर सरकार ने बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ के पोस्टर में अलगाववादी नेता आसिया अंद्राबी की तस्वीर छपने के मामले की जांच के आदेश दिए हैं। अनंतनाग जिले के ब्रांग ब्लॉक में सामाजिक कल्याण विभाग की बच्चों की देखभाल से संबंधित शाखा द्वारा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ के पोस्टर में दुख्तारन-ए-मिल्लत की नेता आसिया की तस्वीर छापी गई थी। इस पोस्टर में आसिया के अलावा इंदिरा गांधी, मदर टेरेसा, महबूबा मुफ्ती और किरण बेदी की तस्वीर भी लगी है। इस अभियान की शुरुआत के दौरान बुधवार को कई पुलिस अधिकारी और अन्य स्थानीय अधिकारी मौजूद थे।
ज्ञातव्य है कि मामला सामने आने के बाद नौशहरा से भाजपा विधायक रविंदर रैना ने पूरे मामले की उच्च स्तरीय जांच की मांग की थी। रविंदर रैना ने आरोप लगाते हुए कहा कि आसिया अंद्राबी कश्मीरी महिलाओं के लिए रोल मॉडल कैसे हो सकती है जो घाटी में पिछले दो दशकों में हुई महिलाओं और बच्चों की हत्याओं के लिए जिम्मेदार है। भाजपा विधायक ने उच्च स्तरीय जांच की मांग करते हुए कहा कि दोषी अधिकारियों के खिलाफ कडी कार्रवाई की जानी चाहिए।
आसिया अंद्राबी अलगाववादी संगठन दुख्तरान-ए-मिल्लत की चीफ है। इस ग्रुप का मकसद कश्मीर को भारत से अलग करना है और आसिया के समर्थक उसे आयरन लेडी के नाम से भी जानते हैं। आसिया ने 25 मार्च 2015 को कश्मीर में पाकिस्तान का झंडा फहराया और पाकिस्तान का राष्ट्रगान भी गाया था। 54 वर्षीय आसिया पाकिस्तान का समर्थन करने वाली अलगाववादी नेता है।
मुंबई हमले का मास्टरमाइंड हाफिज सईद भी एक रैली में फोन पर आसिया से संपर्क करने की बात मान चुका है। आसिया को इस साल दो बार गिरफ्तार किया गया। फिलहाल आसिया जेल में है। आसिया पर कश्मीर की महिलाओं को सुरक्षाबलों पर पत्थरबाजी के लिए भडकाने के आरोप लगते रहे हैं। 9 जुलाई को हिजबुल मुजाहिदीन कमांडर बुरहान वानी के सुरक्षाबलों के साथ एनकाउंटर में मारे जाने के बाद से ही अलगाववादी नेता उकसाऊ बयान देने वालों में आसिया अंद्राबी भी शामिल थी। आसिया ने आतंकी संगठन हिज्बुल मुजाहिदीन के फाउंडिंग मेंबर आशिक हुसैन फख्तू से शादी की थी। 1992 से उनका पति जेल में है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *