प्रशासन ने करवाया बेबी किलर का अंतिम संस्कार

जालन्धर की रहने वाली पत्नी ने शव लेने से कर दिया था इन्कार

पटियाला, (मैट्रो नेटवर्क)। 17 मासूम बच्चियों के साथ रेप और हत्या के दोषी दरबारा सिंह की 6 जून को मौत हो गई थी। उसकी पत्नी ने शव लेने से इन्कार कर दिया तो सोमवार को पटियाला के सैंट्रल जेल प्रशासन ने बडूंगर के श्मशानघाट में उसका अंतिम संस्कार करवा दिया। पटियाला की सैंट्रल जेल के सुपरिंटैंडैंट राजन कपूर ने बताया कि दो जून को दरबारा सिंह की तबीयत खराब हुई थी। उसे जेल अस्पताल में ले जाया गया, जहां से उसे पटियाला के सरकारी राजिंदरा अस्पताल रेफर कर दिया गया था। 6 जून को इलाज के दौरान दरबारा सिंह की मौत हो गई थी। जब बाडी ले जाने के लिए जालन्ध्र में दरबारा सिंह की पत्नी शकुंतला को सम्पर्क किया गया, तो उसने बाडी ले जाने से साफ इन्कार कर दिया। इसके बाद से दरबारा सिंह की लाश को राजिंदरा अस्पताल की मोर्चरी में रखवा दिया गया था। दरबारा सिंह का अंतिम संस्कार सरकारी तौर पर कराने के के लिए पटियाला की अदालत में जज से इजाजत मांगी गई। 66 साल के दरबारा सिंह ने साल 2004 में 17 बच्चियों का रेप करे फिर उनकी निर्ममता से हत्या कर दी थी। इन सभी बच्चियों की आयु 10 साल से कम थी। दरबारा सिंह टाफी का लालच देकर बच्चियों को अपने साथ ले जाता था और फिर वारदात को अंजाम देता था। दरबारा सिंह को सात जनवरी 2008 को फांसी की सजा सुनाई गई थी।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *