पायलट बनने के बाद शख्स ने गांववालों को कराई हवाई यात्रा

जालन्धर, (मैट्रो नेटवर्क)। जिंदगी में कोई मुकाम हासिल करने के बाद अकसर लोग अपने बुजुर्गों और उनकी दी सीख को भूल जाते हैं लेकिन पंजाब के एक शख्स ने अपने गांव के लोगों को न सिर्फ याद रखा बल्कि उन्हें तोहफा भी दिया। आदमपुर के सारंगपुर गांव के रहने वाले विकास ज्ञानी ने पायलेट बनने के बाद अपने गांव के 22 लोगों के लिए हवाई यात्रा की व्यवस्था की। विकास ने गांव में रहने वाले 70 साल से ज्यादा उम्र के 22 लोगों का टिकट कराया जिसके बाद वे नई दिल्ली से अमृतसर की हवाई यात्रा की और वहां सवर्ण मंदिर, जलियांवाला बाग और बाघा बॉर्डर गए। इन यात्रियों में 90 साल की बिमला, 78 साल की राममूर्ति, 78 साल की कानकरी देवी, 75 साल की गिरादावरी देव, 80 साल के अमर सिंह, 75 साल के सुरजाराम, 75 साल के खेमाराम, 72 साल के आत्माराम, इंद्रा, जगदीश और सतपाल शामिल हैं। अपनी पहली यात्रा के बाद इन लोगों ने बताया कि उन्होंने कभी नहीं सोचा था कि वे हवाई सफर करेंगे। उन्होंने बताया कि विकास को हमेशा से विश्वास था कि वह एक दिन पायलट बनेगा। वहीं विकास के पिता महेंद्र का कहना है कि उनके बेटे का यह काम किसी तीर्थ यात्रा से कम नहीं था।
90 साल की बिमला जो पहली बार हवाई जहाज पर बैठी थीं, बताती हैं कि उन्होंने कभी इसकी कल्पना भी नहीं की थी। उन्होंने बताया बहुत से लोग अपने बुजुर्गों से वादा करते हैं लेकिन विकास ने अपना वादा निभाया है। 78 साल की राममूर्ति और कानकरी देवी भी पहली बार हवाई यात्रा कर रही थीं। उन्होंने कहा कि ये सफर उनके जीवन का सबसे खास पल था। उन्होंने अपने सह यात्रियों को भी धन्यवाद कहा जिन्होंने उन्हें जरूरत पडऩे पर मदद की। पायलट के पिता महेंद्र ज्ञानी बैंक में सीनियर मैनेजर हैं। उन्होंने बताया कि विकास हमेशा से अपने बड़ों का सम्मान करता रहा है और यह उसका सपना था।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *