रॉयल रोड्स यूनिवर्सिटी कनाडा और सेंट सोल्जर ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस के बीच हुआ करार

जालन्धर, (निशा शर्मा)। पंजाबभर के छात्रों को एक और सुनहरा अवसर पर प्रदान करने के मंतव्य से उत्तर भारत के प्रमुख शैक्षिक समूह सेंट सोल्जर ग्रुप ऑफ इंस्टीटूशन्स द्वारा कनाडा का प्रसिद्ध स्टेट यूनिवर्सिटी रॉयल रोड्स यूनिवर्सिटी में समझौता ज्ञापन हस्ताक्षर किया गया। यह करार सेंट सोल्जर ग्रुप के प्रो-चेयरमैन प्रिंस चोपड़ा, रॉयल रोड्स यूनिवर्सिटी विक्टोरिया, कनाडा की डायरेक्टर इंटरनेशनल श्रीमती ताशा वेल्श ने सेंट सोल्जर ग्रुप के चेयरमैन अनिल चोपड़ा, वाईस चेयरपर्सन श्रीमती संगीता चोपड़ा, मैनेजिंग डायरेक्टर प्रो.मनहर अरोड़ा, रॉयल रोड्स यूनिवर्सिटी के हेड एडमिशंस श्रीमती ट्रिश ग्लब, डायरेक्टर जैकआरीह शमूएल, वाईस प्रेजिडेंट दिनेश नारायण की उपस्थिति में किया गया। मीडिया को सम्बोधित करते हुए चेयरमैन अनिल चोपड़ा ने बताया कि सेंट सोल्जर ग्रुप ऑफ इंस्टीटूशन्स इस क्षेत्र के छात्रों के लिए अवसरों का विस्तार करने में हमेशा अग्रणी रहा है। कनाडा में पढऩे के इच्छुक छात्रों के रुझान को देखते हुए, बैचलर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन और बैचलर ऑफ होटल मैनेजमेंट और कैटरिंग टेक्नोलॉजी के लिए रॉयल रोड्स यूनिवर्सिटी कनाडा के साथ पाथवे कार्यक्रम शुरू किया है जिसमें छात्र भारत में कोर्स शुरू कर कनाडा में उस कोर्स को पूरा कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त प्रिंस चोपड़ा ने कहा कि यह करार अनुसार रॉयल रोड्स यूनिवर्सिटी (आरआरयू) और सेंट सोल्जर ऑफ इंस्टीटूशन्स के बीच एक समझौता हुआ है जिसमें संबंधित संस्थानों आरआरयू और सेंट सोल्जर ग्रुप ऑफ इंस्टीटूशन्स की मैनेजमेंट, होटल मैनेजमेंट एंड कैटरिंग टेक्नोलॉजी एक जुट होकर छात्रों के सुनहरे भविष्य के लिए काम करेंगी। श्रीमती ताशा वेल्श ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि आरआरयू में निम्नलिखित डिग्री कार्यक्रमों में से किसी भी तीसरे वर्ष में उपयुक्त योग्यता के साथ सेंट सोल्जर ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस के छात्रों के ब्लॉक हस्तांतरण की सुविधा के लिए आरआरयू सहमत हैं :
1. बैचलर ऑफ आट्र्स इन ग्लोबल टूरिज्म मैनेजमेंट (बीएजीटीएम)
2. बैचलर ऑफ आट्र्स इन इंटरनैशनल होटल मैनेजमेंट (बीएआईएचएम)
3. बैचलर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन इन बिजनेस एंड सस्टेनेबिलिटी (बीबीए)।
प्रो. मनहर अरोड़ा ने कहाकि यह एक कलात्मक समझौता है जिसमें छात्र सेंट सोल्जर ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस में अपने पढाई का क्रेडिट रॉयल रोड्स यूनिवर्सिटी में ले सकते हैं। वे भारत में दो साल और कनाडा में दो साल पूरे कर सकते हैं। इस कार्यक्रम के भाग लेने वाले छात्रों को रॉयल रोड्स यूनिवर्सिटी, कनाडा से डिग्री मिलेगी और इस प्रकार दो साल की कानाडा की फीस को बचा जा सकता और कॉलेज डिप्लोमा के बजाय यूनिवर्सिटी की डिग्री प्राप्त की जाएगी। वाईस चेयरपर्सन श्रीमती संगीता चोपड़ा ने विदेश में पढऩे के इच्छुक छात्रों के लिए इसे एक सुनेहरा अवसर बताया और छात्रों को इसका लाभ लेने को कहा।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *