बादल पिता-पुत्र पंजाब में सबसे बड़े डकैत हैं : सिद्धू

नई दिल्ली, (मैट्रो नेटवर्क)। पंजाब के स्थानीय निकाय मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने अकाली दल और बादल पिता-पुत्र को पंजाब का सबसे बड़ा डकैत बताया है। यही नहीं उन्होंने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह को अपने पिता समान बताया। सिद्धू एक न्यूज चैनल के कार्यक्रम में भाग ले रहे थे। इस कार्यक्रम में सिद्धू ने पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा से हुई मुलाकात पर भी खुलकर बातचीत की।
सिद्धू ने कहा कि दुनिया का कोई भी ऐसा मुल्क नहीं है जहां अपने मक्के को जाने के लिए रोका जाता हो। यहां तक की यरुशलम में इतनी जंग होने के बाद भी वहां मौजूद एलेक्सा मोस्क पर मुसलमान जाते हैं। क्राइस्ट की चर्च वहां क्रिश्चिय जाते हैं। ऐसे में सिख समुदाय के लिए भारत सरकार को प्रयास करना चाहिए।
कार्यक्रम के दौरान सिद्धू ने कहाकि उन्होंने भाजपा इसलिए छोड़ी क्योंकि जो राष्ट्रधर्म की बात करते थे वो तस्करों और डकैतों के साथ खड़े हो गए। वो पंजाब में भाजपा को गिरवी रखकर चले गए। मैंने उसे छोड़ पंजाब को चुन लिया।
पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर पाकिस्तान यात्रा के सवाल पर सिद्धू ने कहाकि मेरी यात्रा एक महीने पहले ही तय हो गई थी। मैं तो वाजपेयी के रास्तों पर ही चल रहा था। क्या वाजपेयी जी दोस्ती के लिए पाकिस्तान नहीं गए थे? दिक्कत यह हुई कि सिद्धू गया और आपको किसी ने बुलाया नहीं तो आपको तकलीफ हो गई।
उन्होंने आगे कहाकि सिद्धू की एक झप्पी षड्यंत्र है और इनकी एक राफेल पर 10 हजार करोड़ देना ठीक है? बाजवा आकर मुझे यह कहता है कि गुरुनानक देव जी का लांघा हम लोग खोलने वाले हैं तो मैं पीठ करके खड़ा हो जाता? भारत-पाक का जब मैच होता है और वहां के खिलाड़ी आकर हाथ मिलाते हैं तो क्या लोग पीठ करके खड़े हो जाते हैं? मैं अपने देश के लिए गया था।
सिद्धू ने कहा कि मोदी सरकार बताए कि राफेल डील में जो 10 हजार करोड़ ज्यादा लगे वो किसकी जेब में गए? नोटबंदी के फैसले पर हमला करते हुए सिद्धू ने कहा कि क्या ढ़ाबे में, घरों में और दुकानों पर काम करने वाले मजदूर मां-बहन और बेटे चोर हैं? अगर नहीं तो ये बताएं कि चोर कौन हैं? स्विस बैंक में लाखों करोड़ों रुपये चोरी कर जमा करने वाले कहां गए?
सिद्धू ने अकाली दल पर निशाना साधते हुए कहा कि मेरी मां कहती थी कि किसी का बुरा वक्त आए तो उसे छोडऩा नहीं। आज पंजाब का बुरा हाल है और इसलिए मैं पंजाब के साथ हूं। मेरे सामने सवाल यह था कि मैं पंजाब के साथ रहूं या डकैतों और तस्करों का साथ देने वालों के साथ रहूं। गिरगिट भी इतनी जल्दी रंग नहीं बदलता जितना भाजपा बदलती है। नोटबंदी एक तुगलकी फरमान था, अन्य देशों ने नोट बदलने के लिए चार चार साल लिए लेकिन यहां एक रात में आदेश दे दिया गया। कहा गया कि आतंकवाद खत्म हो जाएगा लेकिन आतंकवाद बढ़ गया। टैक्स रिटर्न बढ़ी तो आरबीआई की इनकम कैसे कम हो गई?
अमरिंदर सिंह से रिश्ते पर सिद्धू ने कहा कि मैंने उन्हें अपना पिता समान माना है और ताउम्र उनके साथ खड़ा रहूंगा। उन्होंने कहा कि सोनिया गांधी वो महिला हैं जिन्होंने प्रधानमंत्री पद को त्यागकर मनमोहन सिंह को पीएम बनाया और जब लड़ाई का मौका आया तो अपने बेटे को आगे कर दिया। राहुल पर जायजा तो उनके पीएम बनने के बाद लिया जाएगा लेकिन 2019 में वर्तमान पीएम के कामों का जायजा लिया जाएगा। क्या आप केंद्र में जाएंगे, इस सवाल पर सिद्धू ने कहा कि जहां सिपाही को कहा जाएगा वहां सिद्धू खड़ा हो जाएगा।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *