सांडर्स की आखिरी सांस रहने तक भगत सिंह को चलानी थी गोली

चंडीगढ़, (मैट्रो ब्यूरो)। लाला लाजपत राय की मौत का बदला लेने की जो रणनीति शहीद-ए-आजम भगत सिंह, राजगुरु, सुखदेव व चंद्रशेखर आजाद ने बनाई थी, उसमें फैसला किया गया था कि इस मिशन में क्रांतिकारी जिस पुलिस अफसर पर हमला करेंगे, वो अफसर जब तक सडक़ पर ही दम न तोड़ दे तब तक गोली चलाएगा और कोई क्रांतिकारी भागेगा नहीं। क्रांतिकारी नहीं चाहते थे कि गोली का शिकार कोई पुलिसवाला अस्पताल में दम तोड़े। इसी रणनीति के तहत सहायक पुलिस अधीक्षक सांडर्स को जब शार्प शूटर राजगुरु ने गोली मारी तो वह वहीं गिर गया। लेकिन उसके बाद भगत सिंह सांडर्स पर तब तक गोलियां चलाते रहे जब तक उसकी मौत नहीं हो गई।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *