आम्रपाली के CMD ने माना- घर खरीदारों के 3 हजार करोड़ रुपए डायवर्ट किए

नई दिल्ली, (मैट्रो नेटवर्क)। आम्रपाली ग्रुप के सीएमडी अनिल शर्मा ने बिजनेस बढ़ाने के लिए घर खरीदारों के ही 2996 करोड़ रुपए दूसरी कंपनियों में डायवर्ट करने की बात मान ली है। इस हेराफेरी के चलते ही हाउसिंग प्रोजेक्ट्स के लिए धन की कमी पड़ गई। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने सख्त रुख अपनाया हुआ है। कोर्ट ने लोगों का पैसा हड़पने को लेकर सीएमडी को जेल में डालने तक की बात कही, जिसके बाद उसने पैसा डायवर्ट करने की बात कबूली। कई हाउसिंग प्रोजेक्ट्स के कंस्ट्रक्शन में शामिल आम्रपाली ग्रुप ने मार्च 2015 तक 2996 करोड़ रुपए दूसरी कंपनियों में जमा कराए और इसके बाद से ही कंपनियों की बैलेंस शीट्स भी अपडेट नहीं हुई।
आम्रपाली ग्रुप ने कहा कि घर खरीदारों से 15 कंपनियों को 11 हजार 573 करोड़ रुपए मिले। साथ ही वित्तीय संस्थानों और विदेशी प्रत्यक्ष निवेश (एफडीआई) से 4040 करोड़ रुपए अतिरिक्त मिले हैं। ग्रुप का कहना है कि उसने 10300 करोड़ रुपए हाउसिंग प्रोजेक्ट्स में निवेश किए हैं। सीएमडी ने ग्रुप की सभी 46 कंपनियों के मॉनेटरी ट्रांजेक्शन कोर्ट के सामने रखे। उन्होंने कहा कि 5980 करोड़ रुपए मॉल, रिसोर्ट, जमीन के लिए पैसे देने, ऑफिस एडमिनिस्ट्रेशन, बैंक और घर खरीदारों को रिफंड में खर्च हुए हैं। उन्होंने इन आरोपों को खारिज किया कि ग्रुप के बाहर की कंपनियों में पैसा घुमाया गया। कोर्ट ने फंड के डाइवर्जन के लिए फोरेंसिक ऑडिट के आदेश दिए हैं। घर खरीदारों के पैसे को दूसरे काम में लेना आपराधिक दुरूपयोग है और इसके चलते कंपनी पर मुकदमा चलाया जाना चाहिए।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *