कांग्रेस में बगावत के सुर, बेरी का घेराव

जालन्धर, (मैट्रो ब्यूरो)। नगर निगम चुनाव में भाजपा-अकाली दल गठबंधन और कांग्रेस के टिकट वितरण के बाद बगावत सिर चढ़ कर बोल रही है। हालांकि कांग्रेस ने अपनी सूची अधिकारिक रूप से जारी नहीं की, लेकिन सूची में शामिल किए गए व्यक्तियों को सूचनाएं आ जाने के बाद बगावत का स्वर बुलंद होता दिखाई दे रहा है। छावनी विधानसभा क्षेत्र में गठबंधन में टिकट बंटवारे में अकाली दल के सामने भाजपा के नेस्तनाबूद हो जाने के बाद भाजपा के कुछ लोगो ने तो इस्तीफे तक घोषित कर दिए थे वहीं इसी धमाचौकड़ी के बीच जालन्धर केंद्रीय निर्वाचन क्षेत्र से पंजाब विधानसभा के चुनाव में कांग्रेस टिकट पर निर्वाचित हुए विधायक राजेंद्र बेरी का कांग्रेस वर्करों ने ही घेराव कर डाला। ये वर्कर दो वार्डों से आए थे। एक थे वार्ड नंबर 32 के तो दूसरे थे वार्ड नं. 17 के। इनके साथ टिकट के चाहवान भी थे, जिनकी बेरी से तीखी बहस हो गई। वार्ड 32 से टिकट के चाहवान दीपक टैहला अपने साथियों के साथ बेरी के दफ्तर पहुंचे। उनका कहना था कि पहले उनका वार्ड सेंट्रल हलके में आता था और विधायक बेरी को जिताने के लिए उन्होंने दिन-रात एक की। अब वह वार्ड वेस्ट हलके में कर दिया। साथ ही टिकट भी किसी और को दी जा रही है। वहीं वार्ड 17 के लोगों ने कहा कि उन्हें पैराशूट नेता नहीं चाहिए। गौरतलब है कि दूसरी बार विधानसभा चुनाव लड़े राजेंद्र बेरी ने अपनी विजय सुनिश्चित करने के उद्देश्य से विभिन्न वार्डों में एक साथ कई वर्करों को टिकट के लालीपाप या छुनछुने पकड़ाए थे। इसी के परिणाम स्वरूप बेरी को ऐसे घेराव का सामना करना पड़ रहा है। उधर जानकारी मिली है कि टिकट की इस धमाचौकड़ी को अपने गृह वार्ड में खत्म करने के लिए बेरी ने एक तीर से दो निशाने किए हैं। उन्होंने इस वार्ड नं. 19 को महिलाओं के लिए आरक्षित करवा कर टिकट की दावेदारियां खत्म करवा दी और अपनी पार्षद पत्नी के लिए टिकट सुनिश्चित कर ली। जानकारी मिल रही है कि बेरी अपनी पत्नी के लिए मेयर पद प्राप्ति का सपना पाले हुए हैं। बेरी के इस गृह वार्ड से 1991 में पहला निगम चुनाव मनोरंजन कालिया से हारने के बाद अभी तक बेरी परिवार अविजित रहा है और मनोरंजन कालिया के भी इस गृह वार्ड में भाजपाईयों की जमानत जब्द होती आई है। लेकिन विधायक चुनाव में दूसरी पारी में मनोरंजन कालिया का हजारों मतों के अंतर से प्रचंड पराजय देने के बाद इस वार्ड में समीकरण बदल सकते हैं। चूंकि कांग्रेस के वरिष्ठ व अविजित पार्षद जगदीश राजा और उनकी पत्नी पूर्व सीनियर डिप्टी मेयर अनीता राजा भी मेयर पद की दावेदार होगी। इसळिए कांग्रेस के भीतरघात और मनोरंजन कालिया को अपना विश्वास बहाल करने की कोशिश बेरी पर काफी भारी पड़ सकती है।
उधर कांग्रेस पार्टी अधिकारिक तौर पर आज भी निगम चुनावों में अपने उम्मीदवारों की सूची जारी नहीं कर सकी जिस कारण आज भी कांग्रेस भवन सूना रहा। सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार कांग्रेस पार्टी पदाधिकारियों ने अंदरखाते निगम चुनाव के लिए संभावित उम्मीदवारों को चुनाव संबंधी पूरी तैयारी रखने को कहा है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *