आर्मी ट्रेनिंग से धोनी का करियर हो जाएगा और लंबा

नई दिल्ली, (मैट्रो सेवा)। टीम इंडिया को दो बार वर्ल्ड चैंपियन बनाने वाले पूर्व कप्तान और मौजूदा विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी जल्द ही आर्मी के साथ ट्रेनिंग करने वाले हैं. आर्मी चीफ बिपिन रावत ने धोनी की ट्रेनिंग को मंजूरी दे दी है। धोनी ने वेस्टइंडीज दौरे से छुट्टी लेकर पैराशूट रेजिमेंट बटालियन के साथ ट्रेनिंग करने की ख्वाहिश जताई थी, जिसे मंजूर कर लिया गया है। अब धोनी पैराशूट रेजिमेंट के कमांडोज के साथ समय बिताएंगे और उनके साथ ड्रिल्स में हिस्सा लेंगे। आर्मी धोनी का पहला प्यार है लेकिन इसके साथ-साथ उन्हें इस ट्रेनिंग से कई और फायदे भी होते हैं। वैसे तो धोनी को कैप्टन कूल के नाम से भी जाना जाता है लेकिन इन दिनों उनके ऊपर कुछ ज्यादा ही दबाव है। वल्र्ड कप के दौरान ही धोनी के संन्यास की अटकलें शुरू हो गई थीं और टूर्नामेंट खत्म होते-होते ये संन्यास की मांग और तेज हो गई। ऐसे में धोनी क्रिकेट से ब्रेक लेकर आर्मी के साथ ट्रेनिंग करने जा रहे हैं, जिससे उनका ध्यान इन सब चीजों से हटेगा। धोनी को आर्मी ट्रेनिंग से मानसिक मजबूती मिलेगी। जिस तरह की ट्रेनिंग आर्मी में होती है, उससे धोनी ना सिर्फ शारीरिक तौर पर बल्कि मानसिक रूप से भी मजबूत होंगे। धोनी पैराशूट रेजिमेंट बटालियन के साथ ट्रेनिंग करने वाली है। इस बटालियन के साथ ट्रेनिंग करने के लिए काफी अच्छी फिटनेस की दरकार होती है। धोनी 38 साल के हैं और इस उम्र में भी उनकी फिटनेस कमाल है लेकिन आर्मी के साथ ट्रेनिंग करने से उनकी फिटनेस एक अलग स्तर पर पहुंचेगी।

You May Also Like