योगी आदित्यनाथ और मायावती पर चुनाव आयोग की बड़ी कार्रवाई, प्रचार पर लगाई रोक

नई दिल्ली, (मैट्रो नेटवर्क)। लोकसभा चुनाव के लिए प्रचार के दौरान धर्म को लेकर बयानबाजी करने के मामले में चुनाव आयोग ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और बसपा सुप्रीमो मायावती के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है। चुनाव आयोग ने योगी आदित्यनाथ और मायावती के प्रचार पर क्रमश: 72 घंटे और 48 घंटे तक की रोक लगा दी है। आयोग का यह आदेश कल सुबह 6 बजे से लागू होगा। आयोग ने यह आदेश सीएम योगी आदित्यनाथ और मायावती के चुनाव प्रचार के दौरान विवादित बयान को लेकर दिया है। आपको बता दें इस मामले पर आज ही सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग को फटकार लगाई है।
दोनों दिग्गज लोगों को आचार संहिता के उल्लंघन का दोषी माना गया है। आयोग ने माना कि इन दोनों नेताओं ने चुनाव प्रचार के दौरान अपने भाषणों में जो वक्तव्य दिए वो सामाजिक और साम्प्रदायिक सौहार्द को बिगाडऩे वाला था। इनकी रैलियों पर प्रतिंबंध का समय कल यानि मंगलवार सुबह 6 बजे से शुरू होगा।
दरअसल मायावती और योगी आदित्यनाथ ने धर्म के आधार पर बयानबाजी की थी जिसे आदर्श आचार संहिता माना गया था, बावजूद इसके इन नेताओं के खिलाफ कोई सख्त कार्रवाई नहीं की गई थी। इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग को कड़ी फटकार भी लगाई थी। मायावती ने यूपी के सहारनपुर जिले के देवबंद में हुई सपा-बसपा और रालोद महागठबंधन रैली में मुस्लिम समाज से सिर्फ महागठबंधन को वोट देने की अपील की थी जबकि यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी एक चुनावी जनसभा में अली-बजरंगबली शब्द का प्रयोग किया था जिसके बाद यूपी सीएम के खिलाफ चुनावी आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायत दर्ज की गई थी। इन दोनों नेताओं के बयानों पर सियासत गरमा गई थी जिसके बाद से लगातार चुनाव आयोग पर सवाल उठने लगे थे कि आखिर क्यों इन नेताओं के खिलाफ कार्रवाई नहीं की गई?
शीर्ष अदालत ने चुनाव प्रचार के दौरान नफरत भरे भाषण देने और धार्मिक आधार पर वोट मांगने वाले नेताओं पर कार्रवाई न करने को लेकर चुनाव आयोग की सीमित शक्तियों को लेकर नाराजगी जताई है। कोर्ट ने आयोग से मंगलवार सुबह 10.30 बजे तक जवाब मांगा है। वहीं चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि चुनाव आचार संहिता तोडऩे को लेकर वह नोटिस और एडवाइजरी जारी कर रहा है। वह न तो किसी को अयोग्य करार दे सकता है और न ही किसी पार्टी को डिरजिस्ट्रार कर सकता है? इस पर चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली बेंच ने सवाल किया कि क्या चुनाव आयोग अपनी ताकत जानता है? सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि वह चुनावी अभियान में हेट स्पीच और सांप्रदायिक बयानबाजी करने वाले नेताओं के खिलाफ कार्रवाई के लिए चुनाव आयोग के अधिकारों की जांच करेगा। चीफ जस्टिस ने कहा कि वे इस मामले की कल सुबह 10.30 बजे सुनवाई करेंगे और मंगलवार को चुनाव आयोग का कोई प्रतिनिधि मौजूद रहें।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *