नए भारत के लिए स्वस्थ बचपन जरूरी है, नहीं तो विकास की गति धीमी हो जाएगी : पीएम मोदी

मथुरा, (मैट्रो नेटवर्क)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को वृंदावन पहुंचे हुए जहां उन्होंने अक्षय पात्र फाउंडेशन के कार्यक्रम मिड-डे मील प्रोग्राम में हिस्सा लिया। इस दैरान पीएम मोदी ने एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि हमारी सरकार द्वारा सुनिश्चित किया जा रहा है कि पोषकता के साथ अच्छी गुणवत्ता वाला भोजन बच्चों को मिले। जिस प्रकार मजबूत इमारत के लिए नींव का ठोस होना जरूरी है, उसी प्रकार शक्तिशाली नए भारत के लिए पोषित और स्वस्थ बचपन जरूरी है।
पीएम ने कहा कि केंद्र सरकार ने बचपन के आसपास मजबूत सुरक्षा घेरा बनाने का प्रयास किया है। इस सुरक्षा के तीन पहलू हैं, खानपान, टीकाकरण और स्वच्छता। जो दान कर्तव्य समझकर बिना किसी उपकार की भावना से, उचित स्थान से, उचित समय पर योग्य व्यक्ति को दिया जाता है, उसे सात्विक दान कहते हैं। इस बार कुम्भ के मेले ने देश को स्वच्छता का संदेश देने में सफलता पाई है। आम ौर पर कुम्भ में नागा बाबाओं की चर्चा होती है, पहली बार न्यूयार्क टाइम्स ने कुम्भ की स्वच्छता को लेकर रिपोर्ट की है।
पीएम मोदी ने कहा कि हमने टीकाकरण अभियान को मिशन मोड में चलाने का फैसला किया। मिशन इंद्रधनुष से देश में लगभग 3 करोड़ 40 लाख बच्चों और 90 लाख गर्भवती महिलाओं का टीकाकरण किया गया है। जिस गति से काम हुआ है, उससे तय है कि सम्पूर्ण टीकाकरण का हमारा लक्ष्य अब दूर नहीं है। मिशन इंद्रधनुष को दुनियाभर में सराहा जा रहा है। पिछले दिनों एक मशहूर मेडिकल जनरल ने मिशन इंद्रधनुष को दुनिया के 12 बेस्ट प्रैक्टिसेज में चुना है।
वृंदावन में पीएम मोदी ने कहाकि गौ माता के दूध का कर्ज इस देश के लोग नहीं चुका सकते हैं। गाय हमारी संस्कृति और परंपरा का महत्वपूर्ण हिस्सा रही है। गाय ग्रामीण अर्थव्यवस्था का भी महत्वपूर्ण हिस्सा है। पशुपालकों की मदद के लिए अब बैंकों के दरवाजे खोल दिए गए हैं। अब बैंकों से 3 लाख रुपये तक का ऋण मिल सकता है। इससे हमारे तमाम पशुपालकों को लाभ मिलने वाला है। बजत में राष्ट्रीय कामधेनु आयोग बनाने का फैसला किया गया है। इस आयोग के तहत 500 करोड़ रूपए का प्रवाधान गौ माता और गौवंश की देखभाव के लिए किया गया है।

You May Also Like