कर्नाटक : कांग्रेस का दावा, 77 विधायक साथ, सिर्फ आनंद सिंह गायब

बेंगलुरु, (मैट्रो नेटवर्क)। कर्नाटक में सरकार बनाने पर सस्पेंस बढ़ता ही जा रहा है। कांग्रेस विधायक दल की बैठक में तीन कांग्रेसी विधायकों के न आने से शह-मात का खेल और दिलचस्प हो गया था। ये तीन विधायक राजशेखर पाटिल, नागेंद्र और आनंद सिंह हैं। इनमें से दो विधायक आनंद सिंह और नागेंद्र रेड्डी बंधुओं के पुराने साथी बताए जा रहे हैं। हालांकि कांग्रेस ने दावा किया है कि उसके 77 विधायक पार्टी के साथ एकजुट हैं, सिर्फ आनंद सिंह का पता नहीं। पार्टी ने कहाकि एक निर्दलीय विधायक भी कांग्रेस के साथ है। टूट से बचाने के लिए पार्टी अपने विधायकों को रिसॉर्ट में ले जा रही है ताकि कोई और पार्टी इनसे सम्पर्क न कर सके। अपने विधायकों को टूट से बचाने के लिए कांग्रेस की यह रणनीति है। यह वही रिसॉर्ट है जहां गुजरात में राज्यसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस विधायकों को रखा गया था।
इधर जेडीएस की बैठक से भी दो विधायक राजा वेंकटप्पा नायक और वेंकट राव नाडागौड़ा नदारद हैं। हालांकि अगर ये विधायक टूटते हैं तो भी कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन के पास बहुमत का आंकड़ा होगा।
वहीं मायावती ने सांसद अशोक सिद्धार्थ को बैंगलोर भेजा है। बसपा के इकलौते विधायक महेश को अपने साथ रखने को कहा है
वहीं भाजपा ने दावा किया है कि उसे एक निर्दलीय विधायक आर. शंकर का समर्थन मिल गया है जिसके बाद उसके विधायकों की संख्या 105 हो गई है। जोड़ तोड़ का खेल जोर-शोर से चल रहा है। येदियुरप्पा समेत सभी भाजपा नेता राज्य में भआजपा की सरकार बनने का दावा कर रहे हैं। वहीं कांग्रेस नेता एमबी पाटिल का दावा है कि भाजपा के 6 विधायक कांग्रेस के संपर्क में हैं।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *