आज तक कोई भी गेंदबाज नहीं तोड़ सका बापू नाडकर्णी का रिकार्ड

नई दिल्ली, (मैट्रो नेटवर्क)। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के 141 वर्षों के इतिहास में कई रिकॉर्ड बने और कई रिकॉर्ड टूटे। रिकॉर्ड बुक में नित नए कीर्तिमान जुडऩे और उनके बदलने का सिलसिला 1877 में खेले गए पहले टेस्ट से ही जारी है। फिर भी एक ऐसा रिकॉर्ड है जो पिछले 54 साल से अटूट है और कोई भी प्लेयर अब तक इसे तोड़ नहीं सका है। यह रिकॉर्ड आज के ही दिन यानि 12 जनवरी 1964 को बना था। मुकाबला भारत और इंग्लैंड के बीच था और मैदान चेन्नई का चेपॉक स्टेडियम था। इस मैच का नतीजा तो किसी को याद नहीं रहता लेकिन टीम इंडिया के गेंदबाज बापू नाडकर्णी ने इस मैच में एक ऐसा रिकॉर्ड बनाया जिसे आज तक कोई भी गेंदबाज नहीं तोड़ पाया।
महाराष्ट्र के नासिक में जन्मे बापू नाडकर्णी ने 12 जनवरी 1964 को टेस्ट क्रिकेट में लगातार 21 मेडन ओवर फेंकने का रिकॉर्ड बनाया था। बापू ने पहली पारी में 32 ओवर फेंके जिसमें उन्होंने 27 ओवर मेडन फेंके थे। बापू नाडकर्णी ने इतनी कंजूसी भरी गेंदबाजी की थी कि अंग्रेज बल्लेबाज उनकी गेंदों पर सिर्फ पांच रन ही बना सके थे। उन्होंने 131 गेंदे लगातार डॉट फेंकी थी यानि इन गेंदों पर कोई भी रन नहीं बना था। बापू नाडकर्णी की गेंदबाजी विवरण था- 32 ओवर, 27 मेडन, 5 रन और कोई विकेट नहीं। बापू ने पहली पारी में सिर्फ 0.15 इकोनॉमी से रन दिए थे जो फटाफट क्रिकेट के इस दौर में सोचना भी बेमानी लगता है। क्रिकेट में जब से एक ओवर में 6 गेंदे फेंकी जाने लगीं उसके बाद से लेकर आज तक कोई भी दूसरा गेंदबाज इस करिश्मे को दोहरा नहीं सका है। 54 साल से यह रिकॉर्ड बापू के नाम पर ही दर्ज है।
ओवर के मामले में नाडकर्णी तो गेंद के मामले में यह रिकॉर्ड दक्षिण अफ्रीकी ऑफ स्पिनर ह्यू टेफील्ड के नाम पर है। आठ गेंद के ओवर के दौर में ह्यू टेफील्ड ने 1956-57 में लगातार 137 डॉट गेंद फेंकी थीं। उन्होंने 17.1 लगातार मेडन ओवर फेंके थे।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *