नन रेप मामला : आरोपी बिशप की जमानत याचिका खारिज, 24 सितंबर तक पुलिस कस्टडी में भेजा

कोच्चि, (मैट्रो नेटवर्क)। केरल नन मामले में आरोपी बिशप फ्रांको मुलक्कल की जमानत याचिका को कोर्ट ने खारिज कर दिया है। इससे पहले आरोपी बिशप को केरल पुलिस ने शुक्रवार शाम गिरफ्तार कर लिया था। केरल की एक नन ने बिशप पर आरोप लगाया था कि 2014 से 2016 के दौरान बिशप ने कई बार उसका आरोप रेप  किया था। मुलक्कल नन से रेप के आरोप में अरेस्ट होने वाले पहले भारतीय कैथोलिक बिशप हैं। शनिवार को कोर्ट ने जमानत याचिका खारिज करते हुए मुलक्कल को 24 सितंबर तक पुलिस कस्टडी में भेज दिया।  पुलिस अभी उनसे और पूछताछ करेगी। बिशप फ्रांको मुलक्कल को छाती में दर्द की शिकायत के बाद कोट्टयम मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था। उन्हें छह घंटे तक परीक्षण के लिए रखा गया था।

एक नन ने आरोप लगाते हुए कहा था कि बिशप मुलक्कल ने मई 2014 में कुराविलांगद स्थित एक गेस्ट हाउस में उससे बलात्कार किया और इसके बाद कई बार नन ने उसका यौन शोषण किया। इस मामले को लेकर नन ने पुलिस अधिकारियों पर भी कई तरह के गंभीर आरोप लगाए और कहा कि बार-बार शिकायत करने के बावजूद बिशप के खिलाफ कार्रवाई नहीं की गई।

रिमांड रिपोर्ट का विवरण

  • आरोपी बिशप ने पीड़िता के साथ यौन उत्पीड़न किया
  • 05/05/2014 को गेस्ट हाउस के कमरा नंबर-20 में रात 10 बजकर 48 मिनट पर आरोपी बिशप पीड़िता को लाया और वहां उसका यौन उत्पीड़न किया गया।
  • इस बारे में किसी को नहीं बताने की धमकी दी गई।
  • 06/05/2014 को दूसरे दिन फिर से पीड़िता का रेप किया गया।
  • 2014 से लेकर 2016 तक पीड़िता का कई बार रेप किया गया और उसी कमरे में अननैचुरल तरीके से सेक्स किया गया।

मुलक्कल ने भी अपनी तरफ से सफाई देते हुए कहा है कि उनके खिलाफ आरोप एक गढ़ी हुई कहानी है, जिसका उद्देश्य नन के खिलाफ मिली कई शिकायतों पर उनके द्वारा की गई कार्रवाई का बदला लेना है। आपको बता दें कि बिशप के खिलाफ एफआईआर दर्ज होने के 85 दिन बाद उनकी गिरफ्तारी हुई है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *