स्थानीय निकाय विभाग के सतर्कता विभाग की कार्यशैली पर प्रश्न चिन्ह

क्या मुख्य सतर्कता अधिकारी अपनी ड्यूटी निभा रहा है : कैलाश ठुकराल

जालन्धर,  (मैट्रो नेटवर्क)। स्थानीय निकाय विभाग द्वारा अपने विभाग को ओर अधिक प्रभावी व जनहितैषी बनाने के लिए अपने कर्मचारियों व अधिकारियों की कार्यशैली को प्रभावी बनाने के लिए सतर्कता विभाग का गठन किया गया था। जिसका कार्य विभिन्न विभागों में व्याप्त विसंगतियों को दूर करना और दोषी कर्मचारियों व अधिकारियों के विरुद्ध उचित कार्यवाही करने हेतु सुझाव देना था। आर.टी.आई. कार्यकर्ता कैलाश ठुकराल ने स्थानीय निकाय विभाग से आर.टी.आई. के माध्यम से 1 जनवरी 2012 से अब तक मु य सतर्कता अधिकारी द्वारा कि ए गए जालन्धर नगर निगम, इ प्रूवमेंट ट्रस्ट और जालन्धर के रि•ानल डिप्टी डायरेक्टर स्थानीय निकाय विभाग के अधीन आती कौंसिल आदि के कार्यों की जानकारी मांगी हैं। ठुकराल ने कहा कि इस अंतराल के बाद विभाग द्वारा वांछित मासिक रिपोर्ट कितनी बार सैक्ट्री, सतरकता विभाग, पंजाब को पेश की गई है जिसके बारे में सरकार की तरफ से स्पष्ट हिदायतें हैं और क्या उस रिपोर्ट के आधार पर स्थानीय निकाय विभाग को कोई लाभ मिला हैं। उनके सतर्कता कार्यों से किन-किन जनसुविधाओं का सरलीकरण या निवारण हुआ है। उन्होंने यह भी जानकारी मांगी है कि इस विभाग के अधिकारी कितनी बार विभागों से संबधित कार्यालयों से जो शिकायत पत्र या अन्य रिकार्ड लेकर गए हैं उन पर कब-कब, क्या-क्या कार्यवाही हुई हैं। कहीं ऐसा तो नहीं शिकायतों के आधार पर एकत्रित किया गया डाटा विभाग को आर्थिक लाभ देने के बजाए स्वार्थ सिद्धि का साधन मात्र बन गया हो।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *