ऐनु मूर्ति न आखो इह सच्ची माँ है, सारे जग विच्च एदा त्रिपुरमालिनी नाम है

त्रिपुरमालिनी धाम की 443वीं साप्ताहिक चौकी

जालन्धर, (मैट्रो ब्यूरो) । स्थानीय श्री देवी तालाब मंदिर स्थित सिद्ध शक्तिपीठ स्थान विश्वमुखी माँ त्रिपुरमालिनी धाम में शुक्रवार की साप्ताहिक चौकियों की श्रृंखला में बीती रात 443वीं चौकी में अनिल कत्याल दिल्ली वालों ने अपने साथियो के साथ गुणगान कर माहौल को भक्तिमय बनाया । इस मौके पर उन्होंने लेखक अनिल कत्याल ‘नीले’ द्वारा माँ त्रिपुरमालिनी दरबार की महिमा का बखान करते हुए लिखी गई नई भेंट ऐनु मूर्ति ना समझो एह सच्ची माँ है सारे जग विच्च एदा त्रिपुरमालिनी नाम है। गाकर भक्तो को माँ के रंग में रंग दिया। अरदास तथा आरती के साथ चौकी सम्पन्न हुई । मंच संचालन समाज सेवक बलदेव आनंद ने किया। इस अवसर पर लेखक बलबीर निर्दोष,पवन मेहता,राजू शर्मा,अर्जुन मल्होत्रा, अरुण वर्मा,अशोक भंडारी,रमन शर्मा,पंकज तकियार, अजय भारद्वाज, इंदरजीत सिंह राही, भूषण कोहली, राजेश तकियार, गौरव लड़ोईया, राकेश बिल्ला, राज कुमार दीवान, शादी लाल धीर, टोनी मरवाहा, जगमोहन सिंह खोसला, दीपक झांजी, अजय लाली,नीरज मित्तल,इंदर मोहन सिंह, सुमित कश्यप, सुनील कुमार, विनय आर्य, प्रदीप पुजारी, कुलदीप भाटिया,भारत भूषण बजाज, नीटू चोपड़ा, राजेश वासल, सोहन लाल, हर्ष महाजन, रमेश भाटिया, मनीष शर्मा, तुषार, सौरव, रीटा शर्मा,रोजी खोसला, पूनम आनंद, सुनीता कालरा, सीता बांसल, ज्योति झांजी,रीमा मरवाहा, आशा बाहरी, सोनिया खोसला,उर्मिला शर्मा, वीना, रितु ,रमा, अंजू शर्मा ,ऋतु झांजी, अनिता, मीनाक्षी नारंग, व अन्य उपस्थित थे । गायन मंडली ने जुग जुग जीवे लाल असी ते एहो चाहने आ , दर ते मनाने हां जन्मदिन दर ते मनाने हां पंछियां वे जा माता दे द्वार, जे मैं तैनू भूल के भुला वी देयाँ मैनू तू ना भुलावी, कोल होवे ते मैं दुख सारे फोला के दूरों तैनू सुनदा नही माए मेरिये, चन्न दी चमके चांदनी ते तारेया दी निम्मी निम्मी लौ, मेरी अखियां च शेरांवाली माँ वस्स गई नैन खोलां किंवे ,मुझे बेटा कह के पुकारो माँ, मैनू अपना दीवाना बना लै के तेरा केहड़ा मुल्ल लगदा, स्वर्गा तोह सोहना तेरा द्वार , माए नी हत्थ जोड़ खड़े, जय मैया त्रिपुरमालिनी बोलो जय मैया त्रिपुरमालिनी इत्यादि भेंटे प्रस्तुत की।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *