कॉमनवेल्थ गेम्स से कट सकता है सुशील का पत्ता!

नई दिल्ली, (मैट्रो नेटवर्क)। भारतीय स्टार रेसलर सुशील कुमार का विवादों से पीछा छूट नहीं रहा है। इस बार सुशील कुमार जिस विवाद में फंसे हैं अगर उसमें वह दोषी करार हो जाते हैं तो क्वालीफाई करने के बावजूद उन्हें अप्रैल में होने वाले कॉमनवेल्थ गेम्स में नहीं भेजा जाएगा। इस बार सुशील सीधे तौर से नहीं बल्कि अपने फैंस की वजह से मुश्किलों में फंस गए हैं।
आस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में होने वाले कॉमनवेल्थ खेलों के क्वालीफिकेशन राउंड के बाद हुए विवाद में अगर सुशील के खिलाफ चार्जशीट दायर की जाती है तो कॉमनवेल्थ गेम्स से उनका पत्ता कट जाएगा। मामला यह था कि कॉमनवेल्थ गेम्स के लिए क्वालीफाइंग इवेंट चल रहे थे। इसमें सुशील का मुकाबला प्रवीण राणा से था। कड़े संघर्ष के बाद सुशील जीते थे। मुकाबला खत्म होने के बाद दोनों पहलवानों के प्रशंसकों के बीच झगड़ा हो गया। इसमें प्रवीण के भाई को काफी चोटें आईं। प्रवीण का आरोप है कि सुशील ने प्रशंसकों को भडक़ाया।
प्रवीण कुमार ने डबल्यूएफआई में एक लिखित शिकायत दर्ज की थी जिसमें उन्होंने यह बताया कि मैच के बाद हुई मारपीट में सुशील कुमार का ही हाथ था। उन्होंने ही अपने समर्थकों को प्रवीण और उनके बड़े भाई नवीन को धमकाने के लिए कहा था जिसके बाद सारा विवाद शुरू हुआ। इसके बाद सुशील कुमार को कारण बताओ नोटिस भेजा गया। प्राप्त सूचना के मुताबिक सुशील ने जवाब देते हुए कहा, ‘जानबूझकर या गलती से भी मैं कभी ऐसा कुछ नहीं कर सकता जिससे पहलवानी खेल पर दाग लगे। मैं कभी किसी रेसलर को नीचा दिखाकर ऐसी हरकत नहीं सकता। मैं इस खेल का सम्मान करता हूं। न मेरा, न ही मेरे किसी समर्थक का इस विवाद में कोई लेने देना है। मै इस पूरे विवाद की निंदा करता हूं।’
इस सफाई के बाद रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया ने यह फैसला किया है कि इस मुद्दे पर बाकी की सुनवाई पीडबल्यूएल खत्म हो जाने के बाद डिसिप्लिनरी कमेटी करेगी। अगर कमेटी को ऐसा लगता है यह फेडरेशन का मामला है तो पहले सुशील और फिर राणा को पूछताछ के लिए बुलाया जाएगा। फेडरेशन ने साफ किया कि अगर कमेटी को लगता है कि इस मुद्दे में पुलिस का अहम रोल होगा तो मामला उन पर छोड़ दिया जाएगा। अगर पुलिस सुशील कुमार के खिलाफ चार्जशीट दायर करती है तो सुशील कुमार को सस्पेंड कर दिया जाएगा साथ ही वह कॉमनवेल्थ की रेस से भी बाहर हो जाएंगे।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *