नोटबंदी का असर इस दीवाली में भी बरकरार, सुप्रीम कोर्ट के आदेश से पटाखा कारोबार नहीं हो सका ‘आतिशी’

जालन्धर, (सोनू शर्मा)। दीपावली पर इस बार पटाखे चलाने के लिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा निधार्रित किए गए 2 घंटे के सीमित समय के आदेशों के चलते इस बार जालन्धर में पटाखा कारोबारियों का कारोबार मंदा दिखाई दे रहा है। हालांकि नोटबंदी से शुरू हुई मंदी इस बार फिर दीवाली पर दिखाई दे रही है। गौरतलब है कि कल 7 नवम्बर को दीवाली का त्यौहार है लेकिन बाजार फीके पड़े हैं। गिफ्ट इत्यादि आइटम्स बेचने वाले अशोक कुमार का कहना है कि इस बार दीवाली फीकी दिखाई दे रही है। इसी प्रकार शहर के सैंट्रल टाउन के निकट गिफ्ट आइटम्स जिसमें बिस्किट, जूस, चिप्स और अन्य नमकीन इत्यादि के ब्रांडेड पैकेट शामिल हैं, बेचने वाले श्री चौधरी का कहना था कि हम इस बार पशोपेश में हैं। इसकी वजह यह है कि इस बार निर्माता कम्पनियों ने भी सीमित संख्या में माल तैयार किया है और हमने मंदी के दृष्टिगत थोड़ा माल मंगवाया है। मंदी की वजह से हम किसी बड़े ग्राहक को एक ब्रांड का सामान दे पाने में भी असमर्थ हैं। चौधरी का कहना है कि कल दीपावली है लेकिन दीपावली वाली रौनक उनकी दुकान पर आज मंगलवार की दोपहर तक भी नहीं थी।
इसी प्रकार शहर के होलसेल पटाखा व्यापारियों की भी हालत सुनने को मिल रही है। जालन्धर के वल्टर्न पार्क स्थित खुदरा बिक्री की अस्थायी पटाखा मार्केट में हालांकि इस बार कांग्रेस समर्थित दुकानदारों ने विधायकों की सिफारिश से दुकानें प्राप्त की थीं लेकिन दुकानों को लगाने के नियमों तथा सुप्रीम कोर्ट के आदेश की बंदिश की वजह से दीवाली की पूर्व रात्रि तक भी उनकी दुकानों का व्यापार आतिशी नहीं हुआ था।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *