एक ही व्यक्ति को जारी कर दिए गए तीन पासपोर्ट

हाईकोर्ट ने फटकार लगाई

चंडीगढ़, (मैट्रो ब्यूरो)। सात साल से लापता बेटे को तलाशने के लिए बूढ़े पिता द्वारा दाखिल याचिका पर सुनवाई करते हुए पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने पंजाब पुलिस को इंटरपोल की मदद लेने के आदेश दिए हैं। सुनवाई के दौरान यह भी सामने आया कि लापता युवक के पास अलग-अलग नाम और पते के तीन पासपोर्ट है। इस पर हाईकोर्ट ने सुरक्षा एजेंसियों पर सवाल उठाते हुए कहा कि एक व्यक्ति को तीन पासपोर्ट केसे जारी किए गए, पुलिस और संबंधित विभाग इसकी जांच करें। याचिकाकर्ता गुरजंग सिंह ने याचिका दायर कर बेटे को तलाशने के लिए पंजाब पुलिस को आदेश जारी करने की अपील की थी। इस संबंध में पूछने पर मोहाली के एसएसपी ने हाईकोर्ट को बताया कि इस बारे में सिंगापुर एंबेसी से संपर्क किया गया है। साथ ही देश के अन्य राज्यों से भी जगबीर सिंह की बारे में जानकारी मांगी गई है। हाईकोर्ट को याचिकाकर्ता ने बताया गया कि लापता युवक को वर्ष 2006 में जगबीर संधू के नाम पर वर्ष 2005 में गजबीर संधू के नाम पर और वर्ष 2001 में रूपिंदर सिंह राणा के नाम पर पासपोर्ट जारी किए गए। इनमें से दो पासपोर्ट मोहाली और एक पासपोर्ट फिरोजपुर के पते पर बनवाए गए हैं। सभी में पते भी अलग-अलग हैं लेकिन पिता का नाम गुरजंग सिंह ही दर्ज है। इसपर पुलिस ने बताया कि जांच के दौरान यह सामने आया है कि जगबीर सिंह वर्श 2009 में ताइवान गया था और वापस आ गया ष्था। उसके बाद से इनमें से किसी भी पासपोर्ट पर कोई व्यक्ति बाहर नहीं गया।

You May Also Like