उत्तर प्रदेश में महागठबंधन का आधिकारिक ऐलान, 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी सपा-बसपा

लखनऊ, (मैट्रो नेटवर्क)। 2019 के लोकसभा चुनाव को लेकर समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के बीच महागठबंधन का आधिकारिक ऐलान हो गया है। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती ने यूपी की राजधानी लखनऊ में संयुक्त रूप से प्रेस कांफ्रेंस करते हुए महागठबंधन का ऐलान कर दिया। प्रेस कांफ्रेंस में मायावती ने भाजपा पर तीखा हमला बोलते हुए कहा कि सपा-बसपा का यह गठबंधन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की नींद उड़ाने वाला है। उन्होंने कहाकि आगामी लोकसभा चुनाव में यूपी से भाजपा और देश से मोदी सरकार का सफाया हो जाएगा।
सीट बंटवारे के बारे में जानकारी देते हुए बसपा अध्यक्ष मायावती ने कहाकि यूपी की 80 लोकसभा सीटों में से सपा और बसपा 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी। 2 सीटों को अभी होल्ड पर रखा गया है जिनके बारे में बहुत जल्द फैसला ले लिया जाएगा। सीट बंटवारे का फैसला 4 जनवरी को दिल्ली में हुई अखिलेश यादव के साथ बैठक में लिया गया था। इसके अलावा यूपी की अमेठी और रायबरेली सीटों को बिना किसी गठबंधन के ही कांग्रेस के लिए छोड़ा गया है। इन दोनों सीटों पर महागठबंधन की ओर से कोई प्रत्याशी नहीं उतारा जाएगा।
मायवती ने भाजपा पर हमला बोलते हुए कहाकि यह प्रधानमंत्री मोदी जी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, इन दोनों गुरु-चेलों की नींद उड़ाने वाली प्रेस कांफ्रेंस है। भाजपा ने यूपी और देश की जनता के साथ वादाखिलाफी की है। आज इस सरकार में देश का किसान, मजदूर, व्यापारी और आम जनता सभी लोग परेशान हैं। सपा और बसपा ने मिलकर हाल ही में यूपी के उपचुनाव में भाजपा को बुरी तरह हराया है। यह इस बात का सबूत है कि देश और यूपी की जनता इस पार्टी की सरकार से त्रस्त है और अब सत्ता परिवर्तन चाहती है। आने वाले समय में भी सपा-बसपा मिलकर भाजपा का इसी तरह सफाया करेंगे।
वहीं प्रेस कांफ्रेंस में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहाकि भाजपा की सरकार आज धर्म के नाम पर, जाति के नाम पर देश में अलगाव का बीज बो रही है। मुझे वो दिन याद है जब भाजपा के नेताओं ने मायावती के खिलाफ अशोभनीय शब्दों का इस्तेमाल किया और भाजपा ने उन नेताओं को बड़े-बड़े मंत्रालय सौंप दिए। मैं आज कहना चाहता हूं कि समाजवादी पार्टी बीएसपी की आभारी है कि उसने हमें समान सम्मान दिया जबकि हमने कहा था कि अगर गठबंधन के लिए हमें 2-4 कदम पीछे हटना पड़ा तो हम उसके लिए भी तैयार हैं। हम इस सम्मान के लिए आभारी हैं और मैं समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं से कहना चाहता हूं कि वो बहन मायावती को मुझसे ज्यादा सम्मान दें। उनका अपमान किसी और का नहीं बल्कि मेरा अपमान होगा।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *